फ्रांस फुटबॉल टीम के कप्तान ह्यूगो लोरिस ने सोमवार को अंतरराष्ट्रीय फुटबॉल से संन्यास लेने की घोषणा की।

36 साल के लोरिस 16 साल तक फ्रांस की टीम के साथ थे। उन्होंने 2018 में विश्व कप और 2020-21 में राष्ट्र लीग जीता।

लोरिस ने नवंबर 2008 में 21 साल की उम्र में उरुग्वे के खिलाफ एक दोस्ताना मैच में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण किया। वह विश्व कप में फ्रांस के लिए सबसे ज्यादा मैच खेलने वाले खिलाड़ी भी हैं।

उन्होंने लिलियन थुरम के 142 मैचों के रिकॉर्ड को पीछे छोड़ दिया। लोरिस ने पिछले फीफा विश्व कप फाइनल में फ्रांस के लिए अपनी 145वीं उपस्थिति दर्ज की।

लोरिस की कप्तानी में फ्रांस की टीम पिछले साल कतर में हुए फीफा वर्ल्ड कप के फाइनल में पहुंची थी. हालांकि, वे फाइनल में पेनल्टी शूटआउट में अर्जेंटीना से हार गए।

इस मैच में दोनों टीमों ने अतिरिक्त समय तक 3-3 गोल बराबर कर लिए। पेनल्टी शूटआउट में अर्जेंटीना 4 गोल करने में सफल रहा।

जबकि फ्रांस केवल 2 गोल ही कर पाया। इस तरह फ्रांस को 2-4 से हार का सामना करना पड़ा। लोरिस ने अपनी कप्तानी में फ्रांस को लगातार दूसरे फाइनल में पहुंचाया।

वह यह उपलब्धि हासिल करने वाले चौथे विश्व कप्तान बने। लोरिस की कप्तानी में, फ्रांस ने 2018 विश्व कप जीता, जबकि 2022 विश्व कप में उपविजेता रहा।

इससे पहले, जर्मनी के कप्तान कार्ल हेंज रममेनिग ने 1982 और 1986 के विश्व कप के फाइनल में अपनी टीम का नेतृत्व किया था।